Option Trading Terminology in Hindi: 20 प्रमुख परिभाषाएँ जो बिगिनर ऑप्शंस ट्रेडर्स को जानना है जरुरी

Option Trading Terminology in HindiPin

हेलो दोस्तों आशा करता हु आप ठीक होंगे आज हम बात करेंगे आपके पसंदीदा सब्जेक्ट की स्टॉक ऑप्शन हो या इंडेक्स ऑप्शन हर ट्रेडर के लिए जानना है जरुरी कुछ जर्गोंस(Jargons)या टर्मिनोलॉजी, ऑप्शन ट्रेडिंग में रुचि रखने वाले हर किसी को इन शर्तों को समझना आवश्यक है। यहां प्रमुख Option Trading Terminology की एक सूची दी गई है:

Also Read:-

1) Options Buyer

ऑप्शन बायर एक ट्रेडर होता है जो ऑप्शन सेलर से ऑप्शन खरीदता है। इसका मतलब है कि ऑप्शन बायर एक्सपायरी पर या उससे पहलेऑप्शन सेलर से पूर्व-निर्धारित कीमत पर अंतर्निहित परिसंपत्ति खरीदने का अधिकार खरीदता है। ऑप्शन बायर इस कॉन्ट्रैक्ट कॉन्ट्रैक्ट के लिए ऑप्शन सेलर को प्रीमियम (शुल्क या मुआवजा) का भुगतान करता है| ऑप्शन सेलर के विपरीत ऑप्शन बायर के पास लिमिटेड रिस्क होता है (यानी केवल भुगतान किए गए प्रीमियम तक), हालांकि, प्रॉफिट अनलिमिटेड हो सकता है|

२) Options Seller or Writer

हर एक ट्रांसक्शन के लिए, एक बायर और सेलर होता है। ऑप्शन सेलर वे निवेशक या ट्रेडर होते हैं, जो कॉन्ट्रैक्ट में शामिल होने के लिए ऑप्शन बायर से प्रीमियम प्राप्त करते हैं और यदि ऑप्शन बायर एक्सपायरी से पहले ऑप्शन का उपयोग करना चाहता है तो कॉन्ट्रैक्ट का सम्मान करने का दायित्व है।

ऑप्शन सेलर को ऑप्शन राइटर के रूप में भी जाना जाता है।

ऑप्शन राइटर के लिए अधिकतम प्रॉफिट केवल प्रीमियम प्राप्त होने तक ही है, हालांकि, सैद्धांतिक रूप से उन्हें असीमित मात्रा में नुकसान हो सकता है।

3) Call Options

मूल रूप से, कॉल ऑप्शन खरीदने का वास्तविक उद्देश्य यह है कि ट्रेडर निकट भविष्य में शामिल सुरक्षा की कीमत बढ़ने की उम्मीद कर रहा है।

इसके विपरीत, जो व्यापारी कॉल ऑप्शन बेचता (या लिखता है) उसका विपरीत (मंदी वाला) दृष्टिकोण होता है|

इसे CE के नाम से भी जाना जाता है|

४) Put Options

पुट ऑप्शन एक प्रकार का ऑप्शन है जो ऑप्शन बायर को भविष्य की तारीख में पूर्व-निर्धारित कीमत पर अंडरलाइंग एसेट को बेचने का अधिकार देता है। पुट ऑप्शन का खरीदार तब मुनाफा कमाता है जब अंडरलाइंग एसेट का मूल्य गिर रहा हो।

सरल शब्दों में, एक ट्रेडर या निवेशक पुट ऑप्शन तब खरीदता है जब उसे उम्मीद होती है कि निकट भविष्य में शामिल अंडरलाइंग एसेट की कीमत गिर जाएगी। जो ट्रेडर पुट ऑप्शन बेचता है उसका तेज़ी का दृष्टिकोण होता है अंडरलाइंग एसेट की कीमत उस पूर्व-निर्धारित कीमत से नीचे नहीं जाएगी।

5) Expiration date or Options Expiry

ऑप्शन एक्सपायरी एक ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट की अंतिम तारीख है, जब तक ऑप्शन का बायर अपने अधिकारों का उपयोग कर सकता है।

भारतीय शेयर बाजार में ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट आम तौर पर वीकली इंडेक्स ऑप्शंस के लिए महीने के प्रत्येक गुरुवार के कारोबारी घंटों के अंत में और स्टॉक ऑप्शंस के लिए हर महीने के आखिरी गुरुवार को समाप्त होते हैं।

6) Underlying Price

अंडरलाइंग प्राइस को स्पॉट प्राइस(Spot Price) के नाम से भी जाना जाता है|

स्पॉट प्राइस या Underlying Price मौजूदा कीमत है जिससे ऑप्शन प्राप्त होते हैं और इस कीमत पर तत्काल डिलीवरी के लिए खरीदा या बेचा जा सकता है।

उदाहरण के लिए, मान लीजिए कि कोई ट्रेडर Tatasteel कंपनी से कॉल ऑप्शन खरीदता है। यदि Tatasteel वर्तमान में 500 रुपये प्रति शेयर पर कारोबार कर रही है, तो स्पॉट कीमत या अंडरलाइंग किम्मत 500 रुपये होगी।

Note:नए ट्रेडर ध्यान दे की अंडरलाइंग किम्मत और स्ट्राइक प्राइस दोनों विभिन्न होती है| अक्सर दोनों को समज़ने में ट्रेडर कंफ्यूज होते हुए दिखते है| अंडरलाइंग किम्मत मार्केट के बायर और सेलर डिसाइड करता है तथा स्ट्राइक प्राइस ट्रेडर को चुननी होती है|

7) Strike Price

ऑप्शन ट्रेडिंग के वक्त स्ट्राइक प्राइस ट्रेडर को चुननि होती है

यदि एक्सपायरी तक प्राइस स्ट्राइक प्राइस से ऊपर है तो कॉल ऑप्शन धारक पैसा कमाता है। दूसरी ओर, यदि स्पॉट प्राइस सहमत स्ट्राइक प्राइस से कम है तो पुट ऑप्शन धारक पैसा कमाता है।

उदाहरण के लिए, मान लीजिए कि किसी ट्रेडर ने BHEL कंपनी का कॉल ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट 100 रुपये में खरीदा है। जिसकी स्ट्राइक प्राइस 100 चुनी है। एक्सपायरी तक कॉन्ट्रैक्ट शेयर की कीमत 150 रुपये हो जाती है, तो ऑप्शन बायर पर प्रति शेयर 50 रुपये (=150 रुपये-100 रुपये) का प्रॉफिट कमाएगा।

8) Index Option

शेयर के साथसाथ , निवेशक और ट्रेडर ऑप्शन ट्रेडिंग में इंडेक्स में भी कारोबार कर सकते हैं। जैसे निफ्टी, बैंक निफ्टी,सेंसेक्स आदि |

भारतीय शेयर बाजार में निफ्टी और बैंक निफ्टी और फिननिफ़्टी ऑप्शन ट्रेडिंग काफी लोकप्रिय है|

9) In the Money (ITM)

इसे सिंपल भाषा में समझा जाए तो स्ट्राइक प्राइस के क्लासिफिकेशन को ITM,ATM,OTM कहा जाता है|

कॉल ऑप्शन के लिए:

ITM: Spot Price > Strike Price (For Call Option)

पुट ऑप्शंस के लिए:

ITM: Spot Price < Strike Price (For Put Option)

10) At the Money (ATM)

At the Money Call Option:इस मामले में, कॉल ऑप्शन का स्ट्राइक प्राइस स्पॉट प्राइस के मौजूदा बाजार मूल्य के लगभग बराबर होता है।

At the Money Put Option:एटीएम पुट ऑप्शन के लिए, स्ट्राइक प्राइस स्पॉट प्राइस के मौजूदा बाजार मूल्य के लगभग बराबर है।

ATM स्ट्राइक प्राइस खरीदना ऑप्शन बायर के लिए सबसे ज्यादा ROI प्रदान करता है,इसमें लागत भी कम होती है( ITM,OTM स्ट्राइक की तुलना में)|

यदि बैंकनिफ्टी स्पॉट में 18,000 के स्तर पर कारोबार कर रहा है और आप 18000 कॉल ऑप्शन या 18000 पुट ऑप्शन खरीदते हैं, तो आप एट द मनी कॉन्ट्रैक्ट में कारोबार कर रहे हैं।

11) Out of the Money (OTM)

OTM स्ट्राइक प्राइस मे लागत और ROI दोनों भी कम होते है| (ITM,ATM स्ट्राइक की तुलना में)

Out of the Money Call Option (OTM Call):

OTM: Spot Price < Strike Price

Out of the Money Put Option (OTM Put):

OTM: Spot Price > Strike Price

12) Intrinsic Value

किसी ऑप्शन की इन्ट्रिंसिक वैल्यू बाजार में स्ट्राइक प्राइस और उसके स्पॉट प्राइस के बीच अंतर से निर्धारित होता है। इसका मूल रूप से अर्थ है कि कॉन्ट्रैक्ट का वर्तमान मूल्य क्या है।

Intrinsic Value of Call Options:

गणितीय रूप से: कॉल ऑप्शन का इन्ट्रिंसिक वैल्यू = स्पॉट प्राइस का वर्तमान बाजार प्राइस - कॉल ऑप्शन का स्ट्राइक प्राइस

Intrinsic Value of Put Options:

गणितीय रूप से: पुट ऑप्शन का इन्ट्रिंसिक वैल्यू = पुट ऑप्शन का स्ट्राइक प्राइस - स्पॉट प्राइस का वर्तमान बाजार प्राइस

13) Time Value

ऑप्शन ट्रेडिंग में "टाइम वैल्यू" एक महत्वपूर्ण अवधारणा है। टाइम वैल्यू ऑप्शन के मूल्य का एक हिसा होता है, जो ऑप्शन होल्डर को भविष्य में होने वाले फ़ायदे के लिए चुकाना होता है। टाइम वैल्यू ऑप्शन के प्राइस में शामिल होती है, क्योंकि ऑप्शन एक सीमित समय तक वैध होती है, और इस समय में कीमत बदलने की संभावना होती है।

टाइम वैल्यू की गणना ऑप्शन के इन्ट्रिंसिक वैल्यू तथा बाह्य मूल्य के आधार पर होता है।

ऑप्शन ट्रेडर्स(option writer or option seller)टाइम वैल्यू को समय के अंत तक कम होने से फ़ायदा उठाते हैं। अगर ऑप्शन होल्डर ऑप्शन की एक्सपायरी तक होल्ड करता है और उसका समय मूल्य खत्म हो जाता है, तो ऑप्शन समाप्त हो जाता है और धारक को कोई लाभ नहीं मिलता है। इसलिए, ऑप्शन ट्रेडर्स को ऑप्शन ट्रेडिंग के लिए सही समय से एंट्री और एग्जिट करना जरूरी है, ताकि टाइम वैल्यू से फ़ायदा उठाया जा सके।

टाइम वैल्यू एक ऑप्शन के मूल्य का महत्तवपूर्ण हिसा होता है, और ऑप्शन ट्रेडिंग के दौरन इसका ध्यान रखना जरूरी होता है।

14) Options Premium

वह शुल्क जो ऑप्शन बायर एक्सपायरी से पहले इंटरिनिसिक वैल्यू के अधिकार के बदले ऑप्शन सेलर को भुगतान करता है, उसे विकल्प "प्रीमियम" के रूप में जाना जाता है। इस प्रकार, यह ऑप्शन खरीदार द्वारा सहा जाने वाला उच्चतम नुकसान है और विक्रेता को प्राप्त होने वाला अधिकतम लाभ है।

Options Premium = Intrinsic Value + Time Value

उदाहरण के लिए, मान लीजिए कि 10 जनवरी 2023 को ABC कंपनी के शेयर की कीमत 1500 रुपये है।

एक ऑप्शन खरीदार एक ऑप्शन विक्रेता से 15 रुपये में 1530 कॉल ऑप्शन खरीदता है। समाप्ति पर, यदि ABC की कीमत 1575 है, तो ऑप्शन खरीदार द्वारा की गई आय 30 रुपये है (स्पॉट मूल्य - स्ट्राइक मूल्य - विकल्प प्रीमियम यानी 1575 - 1530 - 15)।

इसके अलावा, दूसरे उदाहरण में, मान लें कि एक्सपायरी पर,ABC कंपनी की हाजिर कीमत घटाकर रु. 1520. यहां, ऑप्शन खरीदार के लिए बेकार हो जाएगा और खरीदार परिसंपत्ति खरीदने के अपने अधिकार का प्रयोग नहीं करेगा। प्रीमियम विकल्प लेखक/विक्रेता द्वारा अर्जित आय होगी।

1) Options Chain

एक ऑप्शन चैन, जिसमें कॉल और पुट अनुभाग शामिल हैं, अनिवार्य रूप से सभी ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट की एक सूची है। एनएसई इंडिया वेबसाइट पर, आप ऑप्शन चैन तक पहुंच सकते हैं। ऑप्शन के खरीदार और विक्रेता दोनों को ऑप्शन चैन को पढ़ने में सक्षम होना चाहिए।

16) Options Greek

ऑप्शन ग्रीक कई पहलू हैं जो ऑप्शन ट्रेडर्स को ट्रेडिंग ऑप्शन में सहायता करते हैं यह ऑप्शन की कीमत निर्धारित करने में सहायता करती हैं। ग्रीक अक्षर विकल्पों में Rho, वेगा, गामा, डेल्टा और थीटा शामिल हैं।

17) Delta

18)Theta

19)Gamma

20)Vega

Leave a Comment

1
Share to...