मैरिड पुट स्ट्रेटेजी इन हिंदी | Married Put Strategy in Hindi

Protective put strategy in hindiPin

Married Put Strategy in Hindi: शेयर बाजार में कीमतें बहुत अधिक बढ़ रही हैं और हर मोड़ पर अनिश्चितता छिपी हुई है,

संभावित नुकसान को सीमित करने और अपनी होल्डिंग्स की सुरक्षा के लिए निवेशक अक्सर

married put strategy का उपयोग करते हैं।

हम इस पोस्ट में निवेशकों के लिए एक Protective put strategy in hindi की परिभाषा, संचालन

और संभावित अनुप्रयोगों की जांच करेंगे।

Understanding the Married Put Strategy | मैरिड पुट रणनीति को समझना

इसे married put के रूप में भी जाना जाता है|

यह एक निवेशक द्वारा अपने पोर्टफ़ोलिओ या शेयर होल्डिंग की सुरक्षा के लिए निवेशकों द्वारा उपयोग की जाने वाली ऑप्शन स्ट्रेटेजी है।

इस स्ट्रेटेजी के तहत किसी निवेशक के पास पहले से मौजूद शेयर पर पुट ऑप्शन खरीदा जाता है|

Protective Put Strategy के पीछे मुख्य लॉजिक ख़रीदा हुआ पूट ऑप्शन निवेशक की स्टॉक

होल्डिंग्स के लिए इन्शुरन्स के रूप में काम करता है जैसे हम कोई खुद के लिए संभावित हानि से बचने के लिए हम हेल्थ इन्शुरन्स खरीदते है|

यदि स्टॉक प्राइस किसी कारन से बहुत ज्यादा घटती है तो प्रोटेक्टिव पूट ऑप्शन की मदतसे होने वाले लोस्स से बचा जा सकता है|

यह स्ट्रेटेजी विशेष रूप से बाजार की अस्थिरता के समय दौरान हमे मदत करती है जैसे कोई बड़ा

महत्वपूर्ण इवेंट होनेवाला होता है जैसे budget या election results आदि|

How the Married Put Strategy Works | मैरिड पुट रणनीति कैसे काम करती है

तो चलिए बिना देर किए प्रोटेक्टिव पूट स्ट्रेटेजी को कुछ स्टेप्स की मदत से समझते है:

  1. Ownership of the Underlying Stock: पहली स्टेप में इन्वेस्टर की होल्डिंग में शेयर ख़रीदे हुए होने चाहिए या शेयर्स हो "delivery" मेपुरचासे करना होगा|
  2. Purchase of a Put Option: अगली स्टेप में निवेशक को शेयर के बाजार भाव से नीचे की स्ट्राइक प्राइस का पूत ऑप्शन खरीदना होगा |
  3. Expiration Date: पुट ऑप्शन खरीदते वक्त करंट मंथ एक्सपायरी या नेक्स्ट मंथ एक्सपायरी चुन सकते है| निवेषक को कोनसी एक्सपायरी चुननी चाहिए यह पूरी तरह उसकी इन्वेस्टमेंट पीरियड के ऊपर निर्भर करता है|
  4. Protection in Case of a Price Drop: अब यदि शेयर की प्राइस एक्सपायरी के पहले या एक्सपायरी के दिन किसी इवेंट के कारन घटती है और ख़रीदे हुए स्ट्राइक प्राइस के नीचे चली जाती है तब निवेशक को पूट ऑप्शन मे प्रोफिट बुक करना चाहिए
  5. Cost of Protection: जब पोर्टफोलियो प्रोटेक्शन के लिए पूट ऑप्शन ख़रीदा जाता है तो उसे इन्शुरन्स की तरह समजना चाहिये| इससे स्माल लॉस होने की संभावना भी होती है|

Also Read:

When to Use the Married Put Strategy | मैरिड पुट रणनीति का उपयोग कब करें

प्रोटेक्टिव्ह पुढे समझने के बाद निवेशक को यह भी समजना चाहिये की यह स्ट्रॅटेजी का प्रयोग कब करना चाहिए:

  1. Market Volatility:  यदि कोई अनसर्टन अनिश्चित परिस्थिती होती है यह स्ट्रॅटेजी इन्वेस्टर को पीस ऑफ माईंड प्रोव्हाइड करती है जैसे अमेरिका मे यूएसफेड के डिसिजन होते है या युद्धजन्य परिस्थिती होती है|
  2. Earnings Announcements: जब किसी कंपनी का क्वार्टरली अर्निंग रिपोर्ट आने वाले होते है और शेर की प्राइस में बडी हालचाल होने की संभावना होती है आयसी स्थिती मे यश स्ट्रॅटेजी लॉस के विरुद्ध रामबाण इलाज हो सकती है|
  3. Long-Term Holdings: इन्वेस्टर के पास कोई शहर लॉन्ग टर्म बुलिश आउटलूक से खरीदा हुआ होता है बट कुछ शॉर्ट टर्म डाउन टन की बजे से उसे अपने पोर्टफोलिओ को प्रोटेक्ट करने की जरूरत महसूस होती है ऐसे समय में स्ट्रॅटेजी का प्रयोग किया जा सकता है|

Strategy : Buy Stock + Buy Put Option

Married Put Strategy in HindiPin

Conclusion

Married Put Strategy रिस्क मैनेजमेंट टूल की तरह काम करती है| इसके इस्तेमल से बड़े लोस्स से खुद को बचाया जा सकता है| लेकिन इसकी बारीकियां समझ कर ही इसे अपनाये तभी यह बहुत कारगर साबित होगी|

Protective Put Strategy का payoff SYNTHETIC LONG CALL की तरह ही होता है|

Leave a Comment

1
Share to...